किंडरगार्टन माता-पिता के लिए सुझाव

अगर आप प्री-स्कूलर बच्चे के माता-पिता हैं, तो कभीकभार अपने नन्हे मुन्हे का पीछा करना चुनौतीभरा और थकानेवाला लग सकता है। बच्चों की परवरिश सबसे चुनौतीभरा काम है, लेकिन आपको इसे अकेले करने की जरूरत नहीं है।

ऐसे कुछ आसान तरीके हैं जिससे अपने बच्चे और उनकी स्कूल में शामिल होकर बदलाव लाए जा सकते हैं। अपने बच्चे की शिक्षा में शामिल होने से बहुत से फायदे होते हैं। माता-पिता के शामिल होने से स्कूल मजबूत होता है और बच्चों को पता चलता है कि आप सीखने को कितनी अहमियत देते हैं। हम आपको परवरिश के कुछ सुझाव दे रहे हैं जिससे आपको अपने नन्हे मुन्हे बच्चे की परवरिश में मदद मिलेगी।

घर के वालंटियर-

प्रेजेंटेशन और ऐसी ही चीजों जैसे अभ्यासों के लिए सामग्रियां तैयार करने में मदद करें। आप PTA में भी शामिल हो सकते हैं। घर पर अपने अंदर के वालंटियर को सामने लाने से आपके बच्चे को पता चलता है कि स्कूल जरूरी है। इससे शिक्षक के साथ आपके संबंध मजबूत करने में भी मदद मिलेगी।

स्कूल के कार्यक्रमों में भाग लें-

वर्चुअल ओपन हाउस, आर्ट शो, और स्कूल के अन्य कार्यक्रमों में भाग लेने पर महत्व दें। स्टाफ के सदस्यों और दूसरे माता-पिता के साथ बातचीत करने के लिए स्कूल के कार्यक्रम एक बहुत बढ़िया जगह है।

अपने बच्चे से स्कूल के बारे में बात करें-

“तुम्हारी क्लास कैसी थी?” यह कहने की बजाय पूछें कि “आज क्लास में सबसे बेहतरीन चीज क्या हुई?” और “मुझे वह एक चीज बताओ जो तुमने आज किंडरगार्टन में सीखी।“

तकनीक के युग में बच्चे की परवरिश करना मुश्किल है। माता-पिता के पास सही तकनीकी जानकारी होने पर इन कामों को ज्यादा प्रभावी ढंग से किया जा सकता है। कभीकभार आपको अपने बच्चे के ऊर्जा स्तरों और उत्साह की बराबरी करना मुश्किल लग सकता है। अपने परिवरिश का तरीका सुधारने में मदद की जरूरत पड़ने पर इन परवरिश सुझावों का संदर्भ लें।

21वीं सदी के डिजिटल नेटिव की परवरिश से जुड़े हमारे वेबिनार पर यहाँ से जाएँ- https://www.dellaarambh.com/webinars/