पीसी आपके बच्चे के दुनिया को देखने का नजरिया कैसे उन्नत करता है

 

दुनिया तेजी से वैश्विक हो रही है। तकनीक के आगमन और बड़े पैमाने पर उपयोग के साथ हम राष्ट्रों के बीच की सीमाएँ पार कर रहे हैं, जिससे बहुत सी संस्कृतियों का मिलाप हो रहा है।

 

इस नई दुनिया में पीसी ने लोगों का दुनिया को देखने का नजरिया उन्नत करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। चूँकि आपके बच्चे इस नए युग की दुनिया में प्रवेश कर रहे हैं, इसलिए  उन्हें अपना दुनिया को देखने का नजरिया उन्नत करने और भविष्य के लिए तैयार नागरिक बनने हेतु पीसी सक्रियित शिक्षा के लाभ के अनुभव की जरूरत है।

 

पीसी आपके बच्चे को अपने घर से ही दूसरे राज्यों या देशों के वर्चुअल एडवेंचर का प्लेटफॉर्म देता है। इससे वे नई संस्कृतियों को खोज सकते हैं और दूसरे देशों से जुड़ी बहुत सी चीजें सीख सकते हैं, जैसे कि वहां के ऐतिहासिक स्थल, उद्यान, पर्यटन स्थल, और स्मारक।

 

इसके अलावा पीसी बच्चों को दुनिया के अन्य जगहों की पाक शैलियों, भाषाओँ, और त्योहारों के बारे में भी असाधारण मात्रा में जानकारी प्रदान करता है जिससे उनमें जिज्ञासा उत्पन्न होती है। इससे आपका बच्चा अपनी जानी पहचानी दुनिया से परे देख सकता है और इससे वह बेहतर ढंग से दुनिया देख पाता है।

 

घर के पास ही बच्चे अपने देश की उन जगहों के बारे में जान सकते हैं जहाँ वे कभी गए ही ना हों, इससे उनके खुद के देश के प्रति उनका नजरिया उन्नत होगा। गाँव में रहने वाले बच्चे शहरों के बारे में सीख सकते हैं और शहर के बच्चे खेतों और जंगलों के बारे में सीख सकते हैं जिनके बारे में उन्हें पता ही नहीं है।

 

इस प्रकार की संवादात्मक शिक्षा और खोज से आपके बच्चे को एक ऐसा वैश्विक नागरिक बनने में मदद मिलेगी जो कि जिज्ञासु, उत्साही हो, और हमेशा ही जानकारी की खोज में रहता हो। आपको सिर्फ पीसी शिक्षा के जरिए उनमें इसकी चिंगारी उत्पन्न करनी है और आप उनकी जिज्ञासा और रूचि को बढ़ते हुए देख सकते हैं।

 

आपको पता भी नहीं चलेगा कि आपका बच्चा आपको देशों और संस्कृतियों के बारे में ऐसी बाते बताने लगेगा जिनके बारे में आपको भी पता नहीं था, जिससे आपकी खुद की वैश्विक और सांस्कृतिक जानकारी भी बढ़ेगी और उन्नत होगी।

 



माता-पिता- अपने बच्चे का पहला लैपटॉप खरीदते समय इसका ध्यान रखें

कंप्यूटर और लैपटॉप रोजमर्रा की जिंदगी का एक अहम हिस्सा है। हम इनका इस्तेमाल नियमित रूप से करते हैं इसलिए अगर बच्चा इनकी मांग करना शुरू कर दे, तो हमें आश्चर्यचकित नहीं होना चाहिए। जैसे-जैसे कंप्यूटर का आकार छोटा होता जा रहा है वैसे-वैसे कंप्यूटर सीखने की उम्र कम होती जा रही है।

अपने बच्चे की उम्र को ध्यान में रखें

आज नहीं तो कल बच्चे ज्यादा आजादी और गोपनीयता ढूंढना शुरू करेंगे, इसलिए लैपटॉप पर निवेश से उन्हें उनकी अधिकतम क्षमता तक सीखने में और विकसित होने में मदद मिलेगी। एक विशिष्ट उम्र में वे सोचने-समझने लायक हो जाते हैं और वे जटिल और समय आधारित गेम्स और गतिविधियों का आनंद ले सकते हैं और ऑनलाइन नई कुशलताएँ सीख सकते हैं। 

आपके बच्चे को किस में रूचि है?

लैपटॉप खरदीने से पहले उन कारणों पर विचार करें कि आप अपने बच्चे के लिए यह निवेश क्यों कर रहे हैं।  क्या आप विशेष रूप से अपने बच्चे की शिक्षा में सहायता के लिए कंप्यूटर खरीद रहे हैं या गेमिंग और मूवीज देखने के लिए? वजह चाहे जो हो, अपने बच्चे की रुचियों और सुरक्षा को महत्व देना सुनिश्चित करें।

अपना बजट निर्धारित करें

आजकल हर प्राइज रेंज में बहुत प्रकार के लैपटॉप उपलब्ध हैं। आपके बजट और आवश्यक फ़ीचरों के आधार पर आप ऐसी चीज ढूंढ सकते हैं जो आपके बच्चे के जीवन में सटीक बैठती हो। अगर आप महंगे लैपटॉप में निवेश कर रहे हैं, तो अपने बच्चे को महँगी चीजें सँभालने के लिए ट्रेन करें।

वांछित फ़ीचरों का ध्यान रखें

इसके अलावा, स्क्रीन का आकार, उपकरण का वजन और टिकाऊपन जरूरी होते हैं। 12 वर्ष से कम उम्र के बच्चों के लिए आपको आमतौर पर छोटे और हल्के लैपटॉप लेने चाहिए। सुनिश्चित करें कि आप ऐसा उपकरण चुनें जिसके सबसे बढ़िया फ़ीचरों में टिकाऊपन एक हो।

अपने बच्चों के लिए एक सटीक लर्निंग स्त्रोत निर्मित करने के बारे में अधिक जानकरी के लिए हमारे वेबिनार देखें

https://www.dellaarambh.com/webinars/