आपके बच्चे के सीखने की क्षमता को अनलॉक करने के पांच तरीके

"शिक्षा वह आधार है जिस पर हम अपना भविष्य बनाते हैं।" - क्रिस्टीन ग्रेगोयर


एक अभिभावक के लिए अपने बच्चों को स्कूल में तेज़ी से बढ़ते देखने से ज्यादा गर्व का विषय कुछ नहीं हो सकता है| स्कूल में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने के लिए, एक छात्र का छोटी उम्र से ही अपनी क्षमताओं को अनलॉक करना आवश्यक है| यहाँ पर एक कदम दर कदम गाइड दी गयी है जिसके माध्यम से आप अपने बच्चे की मदद कर सकते हैं |

1) पढ़ने को एक दैनिक आदत बनायें
हर दिन पढ़ने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि आपके बच्चे को विचार व्यक्त करने और बेहतर लिखने (write better) का अवसर मिलता है। चाहे वह अखबार का खेल अनुभाग या फिर किसी क्लासिक उपन्यास का अध्याय-हर दिन पढ़कर आपका बच्चा नए शब्दों को सीखेगा और भाषा सन्दर्भ को समझेगा|

2) उनके अंदर की कलात्मकता को बाहर आने दें
प्रत्येक आयु वर्ग और रुचियों के लिए एक Makerspace प्रोजेक्ट उपलब्ध है, आपको बस अपने बच्चों को मजेदार प्रोजेक्ट्स ढूँढने के लिए प्रेरित करना है और सामग्री प्रदान करनी है| हर मेकरस्पेस प्रोजेक्ट आपके बच्चे को कुछ नया सिखाता है|जीत की यह भावना जो कि शुरुआत में मुश्किल लगने वाले कार्य को पूरा करने में आती है,वास्तव में ऐसी ख़ुशी कोई और नहीं|

3) उन्हें गेमिंग पर पकड़ मज़बूत करने दें
अपने बच्चे के अध्ययन दिनचर्या में गेम जोड़ने (adding games) के बारे में सबसे अच्छा हिस्सा यह है कि वे खेलते समय कभी भी "मैं ऊब रहा हूं" यह नहीं कहेंगे| यह किसी परीक्षा की तैयारी करते समय एक ब्रेक जैसा हो सकता है या किसी एक पूरे हिस्से को ख़त्म करने की ट्रीट| सबसे अच्छी बात यह है कि आपके बच्चे पूरी कोशिश करने के लिए प्रेरित होंगे, जो कि उन्हें उनकी क्षमताओं को अनलॉक करने में मदद करेगा|

4) अपने बच्चे की सीखने की शैली को पहचानें


समय के दौरान और विषय के आधार पर, आपका बच्चा एक सीखने का पैटर्न विकसित करेगा जो काम करता है।माता-पिता के रूप में, आपको शैली को पहचानना और सही पीसी संसाधनों के उपयोग को प्रोत्साहित करना सुनिश्चित करना होगा।

5) विशिष्ट प्रतिक्रिया दें
जिन विषयों में आपके छात्र अच्छे हैं उन पर जोर देना सही तरीका है परन्तु उन विषयों का क्या जिनमें आपके छात्र कमज़ोर हैं ?
पहला कदम शिक्षकों से विशिष्ट, क्रियाशील प्रतिक्रिया के लिए अनुरोध करना है और तदनुसार सहायता प्राप्त करें।यहां कुंजी यह है कि अपने बच्चे के शिक्षक से बहुत सारे प्रश्न पूछें जिनके उत्तर सिर्फ हां या नहीं हैं।

यह कभी मत भूलिये आपके बच्चे की सफलता के लिए पीसी एक महान motivational tool है |