टीचर्स डे 2019 : #DellAarambh पहल के लिए एक विशेष दिन

 

डेल आरंभ पूरे भारत के लिए शिक्षा उपक्रम हेतु निर्मित पीसी है जिसका निर्माण तकनीक की मदद से शिक्षा को बढ़ावा देने लिए किया गया है। यह माता-पिता, शिक्षकों और बच्चों को #DigitalIndia में मज़बूती से काम करने में मदद करने के लिए बनाया गया है।

 

एक शिक्षक के लिए, किसी छात्र के लर्निंग ग्राफ को कल के लिए मज़बूत करने से ज़्यादा महत्वपूर्ण कुछ भी नहीं है और यह संभव होता है शिक्षक की खुद की मज़बूती से - शिक्षा के लिए पीसी का इस्तेमाल करें।

एक शिक्षक जब एक पीसी से लैस होता है, तो वह कक्षा में कुछ भी कर सकता है, जैसा कि 79590 में से कुछ व् हर दिन बढ़ते डेल आरम्भ सर्टिफाइड टीचर्स मानते हैं।

  1. पीसी ने आपके करियर के उन्नयन में कैसे मदद की है?

भारतीय शिक्षा प्रणाली ने पाठ्यपुस्तकों के उपयोग से लेकर सॉफ्ट कॉपी नोटों तक को पीसी पर प्रस्तुतिकरण में बदल दिया है। परिवर्तन की एक बड़ी लहर उठ चुकी है और भारत इसका केंद्र है!

  1. जेनज़ेड छात्रों के साथ एक शिक्षक को शिक्षा में किन लोकप्रिय रुझानों के बारे में जानना चाहिए?

सबसे प्रचलित है कक्षा के बाद छात्रों के साथ अंतःक्रिया और उनके साथ पीसी के मदद से सम्पूर्ण पाठों को साझा करना। मूल रूप से सबसे ज़रूरी है संवाद, संवाद और ढेर सारा संवाद।

  1. किसी छात्र के सीखने के ग्राफ के मूल्यांकन में तकनीक ने कैसे मदद की है?

पीसी ने शिक्षकों को त्वरित परिणाम प्रदान किए हैं, जो उन्हें छात्रों के बारे में रियल टाइम आंकड़ों से लैस करते हैं, जो अंततः एक शिक्षक को न सिर्फ उनकी आवश्यकताओं का जवाब देने बल्कि बेहतर ढंग से पाठ योजना बनाने में भी मदद करता है, जो कि एक छात्र के सीखने के परिणामों को बेहतर करता है। स्कूलों में कंप्यूटर लैब और इंटरनेट की उपलब्धता से यह बहुत अधिक शारीरिक तनाव के बिना, उनके सीखने का मूल्यांकन करने में मदद करता है। धीरे-धीरे भारत में डिजिटल मार्किंग आदर्श बनने जा रही है।

  1. पिछले कुछ वर्षों में शिक्षा में कैसा बदलाव आया है?

भारत में छात्र जिस प्रकार से शैक्षिक सामग्री का उपभोग करते हैं, उसे बदलने के लिए तकनीक काफी तेज़ी से आगे बढ़ी है। इंटरनेट-सक्षम पीसी के माध्यम से, यह उस समय की जरूरत बन गया है जो स्थायी रूप से सभी शिक्षण / सीखने के तरीकों को बदलने जा रहा है।

एजुकेटर्स एक सकारात्मक डिजिटल फुटप्रिंट निर्माण हेतु ( create a positive digital footprint ) सुव्यवस्थित कक्षाओं की व्यापकता को समझ चुके हैं। आइये इस #TeachersDay पर हम उनके द्वारा शिक्षण प्रणाली को पीसी सक्षम करने के विशेष योगदान के लिए उनका सम्मान करें।