माता-पिता को स्क्रीन समय से क्यों नहीं डरना चाहिए

 

टीवी
स्मार्टफ़ोन्स
टैबलेट्स
स्कूल में पीसी
और घर पर एक पीसी&hellip.

"स्क्रीन टाइम" हर जगह है और आपके बच्चे के रुटीन का ही नहीं बल्कि आपके रोजमर्रा की जिंदगी का भी बहुत बड़ा हिस्सा है!

तो स्क्रीन समय से क्या डरना ?

एक डिजिटल पेरेंटिंग समर्थक के रूप में यह सबसे बेहतर होगा कि आप अपने बच्चों को अपने सहपाठियों के समान समरूप बनाने में मदद करने के लिए पीसी का खुले दिल से स्वागत करें र उनके भविष्य के लिए तैयार होने के लिए तैयार करना सबसे अच्छा है। यहां तीन कारण दिए गए हैं कि आपको स्क्रीन समय का डर नहीं होना चाहिए:

1) किताबें भी जीवंत रूप ले सकती हैं

बात यह नहीं है कि आपके बच्चे का विषय या उम्र क्या है, एक पीसी के साथ किताबें भी जीवंत रूप ले सकती हैं |यह विषय को वास्तविक जीवन से जोड़ने और बहुत अधिक समय तक चीज़ों को याद करने में मदद करता है। जलवायु परिवर्तन के बारे में एक लघु फिल्म को देखना किताब में सिर्फ परिभाषा पढ़ने से कहीं ज़्यादा प्रभावशाली और दिखने में आकर्षक है |

अपने बच्चों में अंतर देखने के लिए एक बार कोशिश अवश्य करें |

2) खेल का समय सिर्फ खेलने का नहीं

स्कूल में एक लंबे दिन के बाद, दिन भर कक्षाएं, ट्यूशन, अतिरिक्त पाठ्यक्रम गतिविधियाँ, खेलकूद आदि - आपके बच्चे को अगले दिन ज़रूरत है आराम की| गेमिंग का एक घंटा आपके बच्चे के मन से तनाव दूर करने के लिए बिल्कुल सही है| साथ ही साथ यह उनको अपने समस्या-सुलझाने के कौशल को बनाने में भी मदद करेगा। चाहे उसका परिदृश्य या सीखने का खेल हो, आपका बच्चा आनंद लेते हुए नई चीजें सीख रहा है |

3) यह फॅमिली टाइम भी हो सकता है !

पीसी पर होना ज़रूरी नहीं कि आपके बच्चे के लिए एकल गतिविधि हो, ऐसी कई चीज़ें हैं जिन्हें पूरा परिवार एक साथ कर सकता है | एक विडियो को देखना और उसके बारे में बात करना भी पीसी टाइम को फॅमिली टाइम में बदल सकता है | आपको सिर्फ करना ये है कि समय निकालकर पीसी इस्तेमाल करना है और ढूंढना है कि आपके परिवार के लिए क्या सबसे बेहतर है - हर आयु समूह के लिए कुछ न कुछ मौजूद ज़रूर है|

बच्चों के लिए पीसी पर होते हुए भटकना काफी आसान है, खासकर कि जब माता पिता उन पर नज़र नहीं रखते | यह सुनिश्चित करने के लिए कि पीसी पर बिताया गया सही में उपयोगी है,सीखने के संसाधनों के चुनाव से पहले इन सवालों को पूछिए और देखिये अपने बच्चों को कल के तकनीक प्रेमी व्यक्तिव के रूप में उभरते हुए |